आई यू आई और पुरुष निःसंतानता

November 4, 2020

आई यू आई से इलाज

आजकल आमतौर पर यह देखा जा रहा है कि बदलती पर्यावरणीय परिस्थितियों, जीवनशैली, काम के दबाव के कारण तनाव का स्तर बढ़ने और पोषण औसत से कम होने से शुक्राणु की मात्रा और गुणवत्ता खराब हो रही है। है।

पुरुष निःसंतानता

एक स्वस्थ और सफल गर्भावस्था को प्राप्त करने में पुरुष साथी या शुक्राणु बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। पुरुष निःसंतानता के मूल्यांकन के लिए कई परीक्षण हैं लेकिन अभी तक का सबसे सरल और महत्वपूर्ण परीक्षण सिमन एनालिसिस (वीर्य विश्लेषण) है।

वर्तमान में कई लैब यह परीक्षण कर रहे हैं, लेकिन अभी तक सभी प्रयोगशालाएं इस परीक्षण को करने के लिए नवीनतम मशीनों से सुसज्जित नहीं हैं और उनके पास परीक्षण को कुशलतापूर्वक करने के लिए योग्य एंड्रोलॉजिस्ट नहीं है। इसलिए वीर्य का विश्लेषण केवल प्रमाणित लैब से किया जाना अत्यंत आवश्यक है।

कृत्रिम गर्भाधान (आईयूआई)

पुरुष निःसंतानता के इलाज के लिए कई विकल्प उपलब्ध हैं जो कि कारणों पर आधारित हैं –

एक बहुत ही सरल तकनीक आईयूआई या इन्ट्रा यूटेराइन इंसेमिनेशन है। इस तकनीक में अल्ट्रासाउंड मार्गदर्शन में ओव्यूलेशन के समय आईयूआई कैथेटर की सहायता से पति के वीर्य से अच्छी गुणवत्ता वाले गतिशील शुक्राणुओं को उसकी पत्नी के गर्भाशय में छोड़ा जाता है।

 

गर्भाधारण करने के लिए आईयूआई का उपयोग निम्न स्थितियों में किया जाता है-

1. पुरुष साथी में मनोवैज्ञानिक सेक्स से संबंधित समस्या है जिनके कारण सामान्य और नियमित संभोग संभव नहीं हो पाता है और पत्नी के गर्भाशय, ट्यूब और अंडाशय सामान्य हैं।

2. पुरुष जिनमें शुक्राणुओं की संख्या कम है (लेकिन 10 मिलियन प्रति एमएल से कम नहीं हो) या शुक्राणुओं की गतिशीलता कम है।

3. दूर रहकर काम करने वाले पति जैसे सेना, जहाजों पर काम करना, विदेशों में रहना जिसके परिणामस्वरूप नियमित संभोग नहीं हो पाता। ऐसे मामलों में शुक्राणुओं को फ्रोजन और शुक्राणु बैंक में संग्रहित किया जा सकता है और बाद में जब भी आवश्यक हो पति की अनुपस्थिति में भी उपयोग किया जा सकता है।

4. ऐसे दम्पती जिनमें पत्नी में बच्चेदानी के मुंह में विकार या एंटीस्पर्म एंटीबोडिज मौजूद होते हैं।

5. अस्पष्ट निःसंतानता के मामलों में जहाँ निःसंतानता का कोई स्पष्ट कारण निर्धारित नहीं हो रहा हो।

पुरुष निःसंतानता वाले दम्पतियों में आईयूआई का बेहतर परिणाम तब मिलता है जब पोस्ट वॉश स्पर्म काउंट कम से कम 10-15 मिलियन है लेकिन आईयूआई उन पुरुषों में कोई लाभदायक नहीं है जिनके शुक्राणुओं की संख्या 5 मिलियन से कम है।

आईयूआई चक्र में महिला साथी के अंडाशय में 1 या 2 फोलिकल्स का विकास करने के लिए प्रजनन दवाएं या इंजेक्शन दिए जाते हैं। फाॅलिक्यूलर विकास की इस प्रक्रिया की निगरानी अल्ट्रासाउंड द्वारा की जाती है। जब फोलिकल्स पर्याप्त आकार तक पहुंच जाता है तो अंडा फूटने के लिए ट्रिगर इंजेक्शन दिया जाता है। आईयूआई तब किया जाता है जब अल्ट्रासाउंड द्वारा अंडा फूटने की पुष्टि की जाती है।

आईयूआई प्रक्रिया की सफलता के लिए टाइमिंग बहुत महत्वपूर्ण है। यह ओवुलेशन समय के आसपास किया जाना चाहिए।

उपर्युक्त समस्याओं के साथ गर्भाधान में कठिनाई वाले जोड़ों के लिए आईयूआई गर्भधारण की संभावना बढ़ाने में एक सरल और किफायती उपचार है।

कोई भी दम्पती जिसे 3-4 आईयूआई चक्रों से गुजरने के बाद भी गर्भधारण नहीं हो पा रहा है वे अपने फर्टिलिटी एक्सपर्ट के साथ चर्चा कर सकते हैं और बेहतर सफलता दर के लिए आईवीएफ, आईसीएसआई (इक्सी) जैसी उन्नत तकनीकियों को अपना सकते हैं।

आप हमसे Facebook, Instagram, Twitter, Linkedin, Youtube & Pinterest पर भी जुड़ सकते हैं।

अपने प्रेग्नेंसी और फर्टिलिटी से जुड़े सवाल पूछने के लिए आज ही देश की सर्वश्रेष्ठ फर्टिलिटी टीम से बात करें।

Call now +91-7665009014

RELATED BLOG

 

Comments are closed.

Request Call Back
Call Back