पारदर्शिता बढ़ेगी ,आईवीएफ पर विश्वास बढ़ेगा

February 22, 2020

वास्तव में मोदी सरकार की ओर से इस बहुप्रतीक्षित एआरटी बिल को पारित करने का एक बड़ा कदम उठाया गया है , जो सभी के लिए संतोषजनक होने के साथ -साथ देश मेडिकल टूरिज्म इकोनॉमी को लाभ पहुंचाएगा। साथ ही पारदर्शिता बढ़ेगी ,आईवीएफ पर विश्वास बढ़ेगा। सरकार की विश्वसनीयता का बहुत असर पड़ता है। इसका असर न केवल देश के अंदर बल्कि विदेशों ने भी बहुत होगा। चूकि भारत में विश्वस्तरीय टेक्नोलॉजी और स्वास्थ्य सेवाएं बहुत ही सस्ते में उपलब्ध है ,इसलिए मेडिकल टूरिज़्म को बहुत लाभ मिलेगा। मेरा मानना है कि इस बिल से पारदर्शिता आएगी और विश्वास बढ़ेगा। ऐसे में बेहतर रिजल्ट भी सामने आएंगे। सक्सेस रेट बढ़ेगा और सुने आँगन में किलकारियाँ गूंजेगी।

कैबिनेट के फैसले पर टिप्पणी करते हुए डॉ क्षितिज मुर्डिया, सीईओ, इंदिरा आईवीएफ ने कहा, कि “किसी भी उद्योग या विषय पर जब सरकार रेगुलेशन लाती है तो उससे उस उद्योग का बहुत फायदा होता है और वो इंडस्ट्री लंबा रास्ता तय करने में सक्षम बन जाती है. भारत निश्चित रूप से उच्च सफलता दर और सस्ती लागत के कारण आईवीएफ उपचार के लिए एक पसंदीदा जगह है। यदि यह मानकीकृत है और यह एआरटी बिल की छतरी के तहत आता है, तो यह उनके लिए बहुत बड़ा लाभ होगा जिन्हें इस सुविधा की जरुरत है। सभी को मानकीकृत अच्छी गुणवत्ता देखभाल प्राप्त होगा जो न केवल गर्भाधान की संभावनाओं को बेहतर बनाएगा बल्कि सरकार के एआरटी बिल के कारण एक प्रामाणिक व्यवस्था की गारंटी भी देगा। ”

नितिज़ मुर्डिया
लैब डायरेक्टर
इंदिरा आईवीएफ

Comments are closed.

Request Call Back
Call Back