Stress and IVF success
March 2, 2019
Recurrent miscarriage: Causes, tests and treatment
March 6, 2019
2
March
2019

बांझपन से मुक्ति का आसान जरिया – आईवीएफ

जानिए पूरी टेस्ट ट्यूब बेबी प्रक्रिया

आईवीएफ को चिकित्सा जगत में एक चमत्कार के रूप में देखा जाता है, इसका आविष्कार फैलापियन ट्यूब बंद होने के कारण निःसंतान रहने वाली महिलाओं को संतान सुख देने के लिए हुआ था। पहली आईवीएफ संतान 1978 में पैदा हुई थी इसके बाद से आईवीएफ में कई नई तकनीकें आ गयी हैं।   यूरोपियन सोसाइटी ऑफ़ ह्यूमन रिप्रोडक्शन एंड एम्ब्रायोलॉजी के अनुसार, दुनिया भर में अब तक 8 मिलियन से अधिक आईवीएफ संताने पैदा हो चुकी हैं।

इन विट्रो फर्टिलाईजेशन (आईवीएफ) क्या है?

इन विट्रो फर्टिलाइजेशन एक जैविक प्रक्रिया है जो एक लैब में की जाती है। सरल शब्दों में, इन विट्रो फर्टिलाइजेशन एक फर्टिलिटी ट्रीटमेंट है, जहाँ शुक्राणु और अंडों को भ्रूण बनाने के लिए एक लैब में मिलाया जाता है, फिर गर्भाशय में रखा जाता है ताकि आईवीएफ भ्रूण से गर्भधारण करवाया जा सके। आजकल, आईवीएफ उपचार को सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला सफल प्रजनन उपचार माना जाता है।

आईवीएफ उपचार प्रक्रिया कदम से कदम

-यह प्रक्रिया मूल रूप से प्रजनन या आनुवंशिक समस्याओं का ईलाज करने और गर्भाधान में मदद करने के लिए की जाती है। आईवीएफ का प्रयास करने से पहले एक महिला इनफर्टिलिटी उपचार के अन्य विकल्पों के लिए भी जा सकती है। इनमें अंडे का उत्पादन बढ़ाने के लिए दवाएं लेना या आईयूआई (एक प्रक्रिया जिसमें शुक्राणु को सीधे गर्भाशय में ओवुलेशन के समय रखा जाता है) शामिल हैं लेकिन अन्य सभी उपचारों के बाद भी अगर महिला गर्भधारण करने में विफल रहे और आईवीएफ उपचार को अपनाना चाहे तो उसे इस प्रक्रिया की जानकारी होनी चाहिए। दम्पती को पता होना चाहिए कि यह प्रक्रिया स्वयं के अंडे और साथी के शुक्राणु का उपयोग करके की जाती है। इसमें एक गुमनाम दाता से अंडे, शुक्राणु या भ्रूण भी शामिल किया जा सकता है।

इससे पहले कि आईवीएफ उपचार के लिए आगे बढ़ें, महिला एवं पुरुष को निम्नलिखित परीक्षणों से गुजरना होगा-

  1. ओवेरियन रिजर्व का मूल्यांकन

आईवीएफ के पहले अण्डों की स्थिति जानने के लिए एएमएच टेस्ट किया जाता है इसमें सोनोग्राफी की भी मदद ली जाती है।

  1. वीर्य विश्लेषण

-उपचार शुरू करने से पहले पुरूष को वीर्य विश्लेषण कराना होता है। यह परीक्षण शुक्राणु की स्थिति का विश्लेषण करता है, जिसमें संख्या, आकृति और गतिशीलता शामिल है, इसके अलावा दोनों के एचआईवी सहित संक्रामक रोगों की जानकारी के लिए स्क्रीनिंग टेस्ट होते हैं।

  1. गर्भाशय की जाँच

-यह परीक्षण डॉक्टर को महिला के गर्भाशय गुहा या गर्भाशय के अंदर के स्थान की जांच करने में मदद करता है। एक स्वस्थ गर्भाशय गुहा गर्भधारण करने और बनाए रखने के लिए आवश्यक है।

एक युगल के रूप में विचार करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण बिंदु भी हैं, आईवीएफ कराने से पहले इस बारे में डॉक्टर से चर्चा कर लेनी चाहिए।

  1. हस्तांतरण के लिए भ्रूण

-आम तौर पर, उपचार के दौरान प्रत्यारोपित किए जाने वाले भ्रूण की संख्या उम्र और प्राप्त किए गए अंडों की संख्या पर निर्भर करती है। चूंकि अधिक उम्र की महिलाओं (35 वर्ष से ऊपर) के लिए प्रत्यारोपण की दर कम है, इसलिए गभार्धान की संभावना को बढ़ाने के लिए आमतौर पर अधिक भ्रूण स्थानांतरित किए जाते हैं।

  1. एक से अधिक गर्भावस्था

– यह भी पता होना चाहिए कि यदि आईवीएफ उपचार में एक से अधिक भ्रूण गर्भाशय में स्थानांतरित किये जाते हैं तो एक से अधिक गर्भ हो सकते हैं। ऐसी स्थिति से बचने के लिए, लोग पीजीएस तकनीक के माध्यम से स्वस्थ भ्रूण का चयन कर सकते हैं, यह महिला में जटिलताओं की संभावना को कम करने और एक स्वस्थ संतान को जन्म देने में मदद कर सकता है।

  1. अतिरिक्त भ्रूण

-उपचार के दौरान अतिरिक्त भ्रूण या अप्रयुक्त भ्रूण को भविष्य के उपयोग के लिए फ्रीज और संग्रहित किया जा सकता है। हालांकि, कोई गारंटी नहीं है कि सभी भ्रूण ठंड और विगलन की प्रक्रिया को सहन कर पाएंगे। डॉक्टर के साथ इस मुद्दे पर चर्चा की जाती है।

इन विट्रो फर्टिलाईजेशन प्रक्रिया कैसे काम करती है ?

गर्भधारण करने में सक्षम होने से पहले जोड़े को कुछ चरणों से गुजरना पड़ता है। प्रक्रिया के बारे में समझने के लिए चरण-दर-चरण प्रक्रिया इस तरह से है।

  1. ओव्यूलेशन इंडक्शन

यह उपचार का पहला चरण है। यदि स्वयं के अंडों का उपयोग कर रहे हैं, तो शुरू में सिंथेटिक हार्मोन के साथ ईलाज किया जाएगा, जो अंडाशय में एक अंडे के बजाय कई अंडे बनाने करने का काम करते हैं।  कई अंडों का उत्पादन इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि निषेचन के बाद कुछ अंडे निषेचित या विकसित नहीं हो सकते हैं।

इसके लिए डॉक्टर उपचार के विभिन्न चरणों में दवा लिख सकता है-

-ओवरियन स्टीमुलेशन

अंडाशय के लिए आपको आमतौर पर एक फॉलिकल स्टीमुलेटिंग हार्मोन (एफएसएच), एक ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (एलएच) या दोनों के संयोजन वाले इंजेक्शन लेने की सलाह दी जाती है। इससे एक बार में एक से अधिक अंडे पैदा करने में मदद मिलेगी।

-ओसाइट परिपक्वता

अंडे बनने के बाद अंडे को परिपक्व करने के लिए निर्धारित दवाएं दी जाती है।

  1. अंडे की निकासी

-फॉलिकल तैयार होने के बाद, एक ट्रिगर शॉट दिया जाता है। यह इंजेक्शन अंडे को पूरी तरह से परिपक्व होने में मदद करता है और उन्हें निषेचन के लिए तैयार करेगा। शॉट दिए जाने के 36 घंटे बाद से अंडे प्राप्ति के लिए तैयार हो जाते हैं।

  1. ओवम पिकअप

-महिला को ट्रांसवेजाइनल अल्ट्रासाउंड एस्पिरेशन (अंडे प्राप्त करने की सामान्य प्रक्रिया) से गुजारने से पहले उसे दवा के माध्यम से पहले बेहोश किया जाता है। आम तौर पर यह प्रक्रिया एक अल्ट्रासाउंड प्रोब की मदद से की जाती है। अंडों को प्राप्त करने के लिए फॉलिकल में प्रवेश किया जाता है। एकत्र किए गए परिपक्व अंडे फिर एक पोषक तरल और इनक्यूबेटर (तापमान बनाए रखने वाला) में रखे जाते हैं। अंडे जो स्वस्थ और परिपक्व दिखाई देते हैं उन्हें भ्रूण बनाने के लिए शुक्राणु के साथ निषेचित किया जाता है।

  1. शुक्राणु को प्राप्त करना

-साथी को उसी दिन सुबह वीर्य का नमूना देने के लिए कहा जाएगा, जब अंडे को प्राप्त करना होता है। जटिल मामलों में और टेस्टीक्लूर एस्पिरेशन जैसे तरीके, सुई या सर्जिकल प्रक्रिया अंडकोष से सीधे शुक्राणु निकालने के लिए की जाती है।

  1. निषेचन

-अब अंडे सबसे महत्वपूर्ण चरण निषेचन से गुजरेंगे। यह दो तरीकों से किया जा सकता है। पहला गभार्धान है, जिसमें स्वस्थ शुक्राणु और परिपक्व अंडों को लैब मंे निषेचन के लिए रखा जाता है।  दूसरा इंट्रासाइटोप्लाज्मिक स्पर्म इंजेक्शन (इक्सी) है जहां एक स्वस्थ शुक्राणु को सीधे प्रत्येक परिपक्व अंडे में इंजेक्ट किया जाता है। इक्सी का उपयोग अक्सर ऐसे मामलों में किया जाता है जब शुक्राणु की गुणवत्ता या संख्या में समस्या होती है या पिछले आईवीएफ चक्रों के दौरान निषेचन के प्रयासों के सुखद परिणाम नहीं मिले हो।

  1. भ्रूण या ब्लास्टोसिस्ट स्थानांतरण

-अगला महत्वपूर्ण चरण तीन दिनों का है जब कुछ निषेचित अंडे बहु-कोशिका भ्रूण में बदल जाते हैं और दो दिनों के भीतर, वे आगे ब्लास्टोसिस्ट में रूपान्तरित हो जाते हैं। इस स्तर पर वे ऊतकों के साथ एक तरल पदार्थ से भरी गुहा बनाते हैं जो अंततः नाल (प्लेसेंटा) और बच्चे में अलग हो जाएगी। उपरोक्त चरणों से गुजरने के बाद भ्रूण को अंत में गर्भ में स्थानांतरित किया जा सकता है। यह आमतौर पर अंडे की प्राप्ति से दो से छह दिनों के बाद किया जाता है। प्रक्रिया आम तौर पर रोगी के लिए दर्द रहित होती है। डॉक्टर एक लंबी, पतली, लचीली ट्यूब को योनि में गर्भाशय ग्रीवा के माध्यम से गर्भाशय में प्रविष्ट कराते हैं। प्रक्रिया के सफल होने पर एक भ्रूण गर्भाशय के अस्तर में लगभग छह से 10 दिनों के बाद अंडे की प्राप्ति के बाद प्रत्यारोपित होगा।

फर्टिलिटी ट्रीटमेंट एक महिला के लिए अच्छा क्यों है?

-यदि दम्पती कुछ वर्षों से गर्भधारण की कोशिश कर रहे हैं, और सफल नहीं हुए हों, तो यह समय है कि वह आईवीएफ उपचार पर विचार करें। यहां तक कि जो लोग ओव्यूलेशन या अंडे की गुणवत्ता, अवरुद्ध फैलोपियन ट्यूब, एंडोमेट्रियोसिस, गर्भाशय फाइब्रॉइड, अस्पष्ट बांझपन आदि अन्य समस्याओं के कारण गर्भ धारण करने में सक्षम नहीं हैं, वे यह उपचार ले सकते हैं। यह आज उपलब्ध सर्वोत्तम चिकित्सा प्रक्रियाओं में से एक है, जो महिला के गर्भवती होकर संतान के जन्म तक की अवधि तक में मदद कर सकती है। यदि साथी को कम शुक्राणुओं की संख्या की समस्या है, या यदि महिला गर्भवती होने के लिए डोनर अंडे का उपयोग कर रही हैं, तो यह तकनीक सबसे अच्छा उपचार है।

आईवीएफ उपचार क्या है?

-आईवीएफ प्रजनन समस्याओं या आनुवंशिक समस्याओं वाले जोड़ों के लिए लोकप्रिय उपचारों में से एक बन गया है।

आईवीएफ एक आदमी के इलाज में कैसे मदद करता है?

-पुरुषों में शुक्राणु की संख्या में गिरावट, कमजोर गतिशीलता या शुक्राणु के आकार में असामान्यताएं एक अंडे को निषेचित करने में दिक्कत खड़ी कर सकती हैं। यदि ऐसी समस्याएं पाई जाती हैं, तो पहले आईयूआई के माध्यम से कोशिश करने की सिफारिश की जाती है, शुक्राणुओं की संख्या बहुत कम होने या गुणवत्ता में कमी होने पर आईवीएफ /इक्सी की ओर रूख करना चाहिए।

आईवीएफ के माध्यम से गर्भवती होने में कितना समय लगता है?

-आईवीएफ के एक चक्र को पूरा करने में लगभग चार से छह सप्ताह लगते हैं। आमतौर पर अंडे की प्राप्ति की प्रक्रिया के 12 दिनों से दो सप्ताह बाद, आपको गर्भावस्था के निर्धारण के लिए रक्त परीक्षण करने के लिए कहा जाएगा।

आईवीएफ की सफलता दर क्या है?

-किसी भी दंपती ने परिवार शुरू करने के लिए आईवीएफ मार्ग अपनाने का फैसला किया है तो प्राथमिक सवाल यही है कि आईवीएफ कितना सफल है?  इस सवाल का निर्णायक जवाब मिलना मुश्किल है क्योंकि आईवीएफ उपचार की सफलता दर बांझपन और उम्र सहित विभिन्न कारणों पर निर्भर करती है। कम उम्र की महिलाओं में आमतौर पर स्वस्थ अंडे और उच्च सफलता दर होती है। हाल के अध्ययन के अनुसार, महिलाओं के स्वयं के अंडों का उपयोग करके आईवीएफ के एक चक्र के परिणामस्वरूप जन्म दर 34 वर्ष और उससे कम उम्र की महिलाओं के लिए लगभग 60 से 70 फीसदी रहती है। आईवीएफ की सफलता को प्रभावित करने वालों में उम्र, भ्रूण की स्थिति, प्रजनन इतिहास, धूम्रपान जैसे जीवन शैली और मोटापा प्रमुख कारक हैं।

प्राकृतिक रूप से गर्भधारण नहीं होने और सामान्य उपचार से लाभ नहीं होने की स्थिति आईवीएफ तकनीक संतान प्राप्ति का आसान जरिया बन कर सामने आयी है।

You may also link with us on Facebook, Instagram, Twitter, Linkedin, Youtube & Pinterest

Talk to the best team of fertility experts in the country today for all your pregnancy and fertility-related queries.

Call now +91-7665009014

Comments are closed.

Request Call Back
Call Back