pregnancy cure endometriosis
अपनी बढ़ती उम्र को अपनी निःसंतानता का कारण न माने
May 23, 2020
hcg levels
आईवीएफ के बाद एचसीजी प्रेगेन्सी टेस्ट से पहचानें गर्भावस्था
May 26, 2020
tips for pregnant at 40 age
26
May
2020

उम्र गुजर गई, 45 में भी मां बनने के हैं अवसर

महिला की प्रजनन उम्र

-कैरियर के चलते कई महिलाएं 21 वीं सदी में बच्चे को जन्म देने के निर्णय का टालती हैं। इससे महिला की प्रजनन दर के मुकाबले उसकी उम्र में काफी वृद्धि हुई है। अधिकतर दंपति गर्भावस्था को प्राप्त करने के लिए एआरटी पर निर्भर हंै। अधिक उम्र के बाद भी सही प्रजनन दर डिम्बग्रंथि रिजर्व पर आधारित होती है यानी एक निश्चित उम्र में दोनों अंडाशय में स्वस्थ अंडों की संख्या। अंडों में उर्वरता की कमी, गिरावट, अनियमित चक्र रजोनिवृत्ति का संकेत देता है। अंडों की गुणवत्ता क्षय से प्रजनन क्षमता कम हो जाती है जिसे गर्भधारण करने की क्षमता के रूप में परिभाषित किया गया है।

विषय विशेषज्ञों की तो उनके मुताबिक 20 वर्ष से 35 वर्ष के बीच की आयु गर्भधारण के लिए सबसे बेहतर मानी जाती है। 30 से 40 साल की उम्र में प्रजनन उपचारों के बिना गर्भधारण करने की पूरी संभावना होती है। रजोनिवृत्ति की शुरूआत सभी महिलाओं में अलग-अलग है लेकिन औसतन इसकी उम्र 51 वर्ष मानी गई है।

31 साल की उम्र के बाद महिला की प्रजनन दर में कमी आने लगती है, एक कमी जो 37 साल की उम्र के बाद तेज हो सकती है और नि:संतानता की ओर ले जाती है।

प्राकृतिक और सहायक प्रजनन क्षमता में कमी

-मानव प्रजातियों में औसत मासिक उर्वर दर [ फेकुंडिटी दर ]लगभग 20 फीसदी है। बढ़ती उम्र के साथ ऊपजाऊपन कम हो जाता है। 45 वर्षों के बाद, यदि कोई महिला गर्भावस्था की योजना बना रही है, तो उसे पहले से ही चिकित्सकों के साथ जटिलताएं और आनुवंशिक काउंसलर के साथ आनुवंशिक असामान्यताएं होने के जोखिमों पर चर्चा करनी चाहिए। गर्भधारण के बाद कुछ परीक्षण किए जा सकते हैं जैसे यूएसजी, रक्त परीक्षण, एमनियोसेंटेसिस या सीवीएस (कोरियोनिक विलस सैंपलिंग) जैसे कुछ जन्म दोषों की जांच।

उपचार के विकल्प उपलब्ध हैं

-यदि 45 वर्ष की आयु की महिला बच्चे को जन्म देना चाहती है, तो उसे फर्टिलिटी विशेषज्ञ की मदद लेनी चाहिए। कई अध्ययनों से पता चलता है
कि 40 साल से ऊपर की महिलाओं के लिए ओव्यूलेशन इंडक्शन, आईयूआई के साथ उपचार की सफलता दर प्रति साइकिल जीवित जन्म दर एक प्रतिशत से कम है। ऐसी महिलाओं में आईवीएफ- इन विट्रो फर्टिलाइजेशन सबसे अच्छा विकल्प है क्योंकि इसमें सफलता की संभावना सबसे
ज्यादा होती है। आईवीएफ के अलावा अन्य उपचारों का प्रयास करने से गभार्धान में देरी होगी और दंपति तनावग्रस्त होगा। सुपर ओवुलेशन / आईयूआई की 40 साल से ऊपर की सफलता दर <5 प्रतिशत प्रति चक्र है और आईवीएफ के साथ लगभग 20 फीसदी है।

उचित इनफर्टिलिटी कार्य होना चााहिए।

-ओवेरियन रिजर्व का अनुमान महिला की उम्र से होता है, जिसके बाद यूएसजी के लिए एएफसी, एएमएच स्तर होता है। डिम्बग्रंथि रिजर्व
परीक्षण के आधार पर, स्वयं के अंडे के साथ या अंडे के दान के साथ व आईवीएफ की आवश्यकता के बारे में अनुमान लगाया जा सकता है।

आईवीएफ

-अंडे को हटाने और उन्हें लैब में पुरुष साथी के शुक्राणु के साथ निषेचित करने और फिर परिणामस्वरूप भ्रूण को गर्भाशय में स्थानांतरित करने की प्रक्रिया आईवीएफ है। हालांकि, आईवीएफ के साथ भी गर्भधारण करने की संभावना बढ़ती उम्र 40 साल से कम और इससे अधिक और 45 वर्ष से कम की उम्र में काफी कम है, खासकर जब महिला अपने ही अंडों से गर्भ धारण करने की कोशिश कर रही हो। एक महिला में 45 वर्ष से कम उम्र में यदि आईवीएफ उसके स्वयं के अंडे के साथ काम नहीं करता है, तो महिला दाता अंडे के साथ आईवीएफ करवा सकती है। डिंब दान चक्र में, अंडों को दूसरी महिला से प्राप्त किया जाता है, जो छोटी (20-30 वर्ष की आयु) है और साथी के शुक्राणु के साथ निषेचित होती है और परिणामस्वरूप भ्रूण वापस महिला के गर्भाशय में डाला जाता है।

दाता अंडे के साथ आईवीएफ के माध्यम से गभार्धान की संभावना बहुत अधिक है। जबकि दाता महिला को डिम्बाणुजन कोशिका या ऊसाइट पुनर्प्राप्ति के लिए हार्मोनल इंजेक्शन दिया जाता है, प्राप्तकर्ता महिला को निषेचित अंडे यानी भ्रूण प्राप्त करने के लिए उसके गर्भाशय को तैयार करने के लिए हार्मोनल थेरेपी दी जाती है।

अतिरिक्त भ्रूण भविष्य में उपयोग के लिए क्रायोप्रेसिव हो सकते हैं। आईवीएफ से जन्म लेने वाले बच्चे का जन्म दाता के अंडे के साथ होता है, लेकिन यह माता से आनुवंशिक रूप से संबंधित नहीं होगा, केवल पिता और दाता महिला के साथ ही होगा।

सुरक्षा

– 45 साल की उम्र में गर्भावस्था एक उच्च जोखिम गर्भावस्था है। एआरटी की योजना बनाने से पहले कार्डियोलॉजिस्ट फिटनेस अनिवार्य रूप से लिया जाता
है। संपूर्ण गर्भावस्था में नजदीकी निगरानी की आवश्यकता होती है। पहले से मौजूद स्वास्थ्य समस्याओं के कारण गर्भावस्था जटिल हो सकती है। उदाहरण के लिए, गर्भावस्था के दौरान 45 साल की उम्र में महिला में उच्च रक्तचाप और मधुमेह के विकास का तीन गुना अधिक जोखिम होता है।

वृद्ध महिलाओं में भी गर्भपात, प्रसव पूर्व जन्म और प्लेसेंटा प्रिविया, अचानक होने की दर अधिक होती है। लंबे समय तक प्रसव और सीजेरियन सेक्शन की संभावना अधिक होती है। जन्मजात असामान्यताओं के साथ एक बच्चा होने की संभावना बढ़ जाती है जब एक महिला अपने स्वयं के अंडे का उपयोग ओडी चक्रों की तुलना में करती है जहां अंडा दाता की उम्र बहुत कम होती है।

ऊसाइट क्रायोप्रेजर्वेशन

-यदि एक महिला 40 की उम्र तक प्रसव में देरी करना चाहती है, तो उसे प्रजनन सुरक्षा के कुछ तरीकों पर विचार करना चाहिए। ेर से मां बनने के लिए जैसे कि एग फ्रीजिंग तकनीक अपनाना। ऊसाइट फ्रीजिंग की सफलता अच्छी तरह से स्थापित है। जो महिला को गर्भावस्था को स्थगित करने का अवसर देती है। मसलन कैरियर, चिकित्सकीय कारण, कैंसर या सामाजिक कारण से मां नहीं बनना चाहती हो।

कई अध्ययनों से यह साबित हुआ है कि बांझपन की समस्या उम्र बढ़ने से संबंधित जर्म सेल के बिगड़ने के कारण होती है, हालांकि अधिकांश बुजुर्ग महिलाओं में गर्भाशय पूरी तरह कार्यात्मक रहता है। इसलिए बाद में 45 साल की उम्र में भी एक महिला अपने जैविक बच्चे को पा सकती है।

निष्कर्ष

वैज्ञानिक प्रगति के चलते आईवीएफ से गर्भावस्था को प्राप्त करने और पितृत्व का आनंद लेने के लिए 45 वर्ष की महिला के लिए भी बहुत अच्छे
अवसर हैं।

You may also link with us on Facebook, Instagram, Twitter, Linkedin, Youtube & Pinterest

Talk to the best team of fertility experts in the country today for all your pregnancy and fertility-related queries.

Call now +91-7665009014

RELATED BLOG

 

Comments are closed.

Request Call Back
Call Back