Skip to main content

Synopsis

ब्लास्टोसिस्ट कल्चर या फ्रोजन भ्रूण प्रत्यारोपण प्रक्रिया में भ्रूण तैयार करने के बाद उसी साइकल में प्रत्यारोपण करते है और उसे पाँच दिन एक विशेष तरल पदार्थ में रखा जाता है|

किसी ने ठीक ही कहा है जब भी मैं अपनी छोटी परछाई को देखता हूँ तो मेरा बचपन लौट आता है और उसे हँसते खेलते देख मैं अपने सरे दुःख भूल जाता हूँ। आधुनिक युग में माता पिता बनना किसी सपने से कम नहीं है क्योकि वक़्त के साथ निसंतानता भी बढ़ती जा रही है। लेकिन साथ हमारी आईवीएफ की प्रक्रियाओ में भी आधुनिकता आ रही है। और हम निसंतानता और मातृत्व सुख के बीच की दिवार को हटाने में कामियाब हो रहे है।

आधुनिक तकनीकों में से एक है “ब्लास्टोसिस्ट कल्चर”। विधि में महिला व पुरुष से अण्डा व शुक्राणु निकाल कर भ्रूण तैयार किया जाता है और उसे पाँच दिन एक विशेष तरल पदार्थ में रखा जाता है क्योकि पाँचवे दिन के भ्रूण में चिपकने की क्षमता दूसरे व तिसरे दिन भ्रूण से कई गुना ज्यादा व बेहतर है।

पूर्व में आईवीएफ में दूसरे या तीसरे भ्रूण बच्चेदानी में रखते थे, प्रेगनेंसी रेट बहुत कम होती थी तथा बच्चा गिरने की सम्भावना काफी ज्यादा थी। मगर इस तकनीक से सर्वश्रेष्ठ भ्रूण के चयन मौका मिलता है, क्योकि यह तकनीक सबसे शक्तिशाली जीवित रहने धारण पर आधारित है।
इस प्रक्रिया में पाँचवे दिन का भ्रूण गर्भाशय में सामान्य रूप से प्रत्यारोपित कर दिया जाता है

फ्रोजन भ्रूण प्रत्यारोपण: –

यह भी आधुनिक है, जिसने आईवीएफ सफलता ओर बढ़ा दिया है। जब भ्रूण तैयार करने के बाद उसी साइकल में प्रत्यारोण करते है तो फ्रेश भ्रूण प्रत्यारोपण या फ्रेश एम्ब्रयो ट्रांसफर कहते है। जबकि फ्रोजन तकनीक में भ्रूण को फ्रिज कर दिया जाता है तथा अगली साइकल या जब दंपत्ति चाहता है, तब ट्रान्सफर जाता है।

तकनीक से तैयार भ्रूण को ठंडा किया जाता है तथा ट्रान्सफर से पूर्व गरम कर पुनः जीवित किया है। पूर्व में जब यह तकनीक नहीं थी, तब तीसरे दिन का भ्रूण उसी साइकल में प्रत्यारोपित किया जाता था, सफलता दर 30 – 40 % ही थी। तथा प्रेगनेंसी में कॉम्प्लिकेशन अधिक थी।

ऐसा मन जाता है, की जब आईवीएफ की प्रक्रिया शुरू होती है तब महिला को अधिक अण्डा बनाने के लिए इंजेक्शन लगते है ताकि अच्छे भ्रूण मिल सके। तब महिला के शरीर में हार्मोन लेवल नोर्मल से ज्यादा हो जाते है, इसलिए अगर उसी साइकल में भ्रूण ट्रान्सफर किया जाये तो बच्चा लगने की संभावनाये बहुत कम होती है। इसलिए पाँचवे दिन के भ्रूण को फ्रिज कर लेते है तथा अगली साइकल में जब महिला को माहवारी आ जाती है तब हार्मोन स्तर सामान्य हो जाते है। तब जैसा की प्राकृतिक साइकल में होता है, एक अच्छे बच्चेदानी की परत तैयार हो जाती है, तब भ्रूण प्रत्यारोपण कर दिया जाता है ताकि वह अच्छी जड़ जमा सके।

इस तकनीक से 70% प्रेगनेंसी रेट मिलने लगे है तथा बच्चा गिरने की संभावना भी कम हो गयी है। इसके अलावा भी इस तकनीक के अनेक फायदे है। जब भी किसी हाई रिस्क दंपत्ति के भ्रूण का DNA टेस्ट करना होता है तो हमारे पास समय होता है क्योकि भ्रूण सुरक्षित रखे है। इसके अलावा जब कभी अधिक अण्डे किसी महिला में बन जाते है तो उसे OHSS की संभावना बढ़ जाती है। इसमें ज्यादा अण्डे बनने की वजह से महिला की छाती और पेट में पानी भर जाता है, जिससे स्वास लेने में तकलीफ होती है। यह रिस्क PCOD महिला में ज्यादा होता है। मगर इस तकनीक से यह समस्या भी कम हो गयी है। इसके अलावा अगर दंपत्ति चाहे तो उसी फ्रोजन भ्रूण से दूसरी प्रेगनेंसी के लिए इस्तेमाल कर सकता है। इसलिए आधुनिक युग में ब्लास्टोसिस्ट कल्चर तथा फ्रोजन भ्रूण प्रत्यारोपण किया जाता है। इन तकनीकों से सफलता दर 75 – 80% है।
धन्यवाद।

Comments

Articles

2022

Infertility Treatment Blastocyst Culture And Transfer

6 Sexually Transmitted Diseases (STDs) that can make you infertile!

IVF Specialist

The relation between STD & Infertility- Besides preventing pregnancy, t...

2022

Infertility Treatment Blastocyst Culture And Transfer

Patient’s Guide to IVF – Post Embryo Transfer DO’s and DONT’s

IVF Specialist

Although there are not many things that an IVF patient, who has recently got a...

2022

Infertility Treatment Blastocyst Culture And Transfer

IVF Process in 3 Simple Steps: Stimulate, Retrieve, Transfer

IVF Specialist

INTRODUCTION IVF, In vitro fertilization, is an infertility treatment of fe...

2022

Infertility Treatment Blastocyst Culture And Transfer

Step by Step- Embryo Transfer

IVF Specialist

The IVF procedure culminates with embryo transfer. It is very important to mak...

2022

Infertility Treatment Blastocyst Culture And Transfer

How Many Embryos Should I Transfer

IVF Specialist

Embryos Transfer – Introduction The 1st successful invitro fertilisation ...

2022

Infertility Treatment Blastocyst Culture And Transfer

What Is The Best Advice After Embryo Transfer

IVF Specialist

In Vitro Fertilisation, popularly referred as IVF has captured attention since...

2022

Infertility Treatment Blastocyst Culture And Transfer

Elective single embryo transfer (eSET): A safe option in IVF

IVF Specialist

What is Single Embryo transfer or SET? Single embryo transfer (SET)is an el...

2022

Infertility Treatment Blastocyst Culture And Transfer

Embryo Transfer Process

IVF Specialist

What is Embryo Transfer ? ▪ Embryo Transfer is a very crucial step in IVF...

2022

Infertility Treatment Blastocyst Culture And Transfer

What are the Benefits of Frozen Embryo transfer?

IVF Specialist

Frozen Embryo Childlessness was considered a social stigma since ages. Mill...

2022

Infertility Treatment Blastocyst Culture And Transfer

Quality control (QC) concerning pH, temperature and osmolality in the embryology lab

IVF Specialist

The efficiency of the embryology lab protocols can be improved by conducting r...

Tools to help you plan better

Get quick understanding of your fertility cycle and accordingly make a schedule to track it

© 2023 Indira IVF Hospital Private Limited. All Rights Reserved.