शुक्राणुओं की संख्या कैसे बढ़ाएं
शुक्राणुओं की संख्या कैसे बढ़ाएं?
September 29, 2020
जानिए कैसे होता है सीमन एनालिसिस ?
October 6, 2020
3
October
2020

क्या निःसंतानता को ठीक किया जा सकता है ?

क्या निःसंतानता को ठीक किया जा सकता है? यह किसी भी संतानहीन दम्पती के सामने सबसे चिंताजनक प्रश्न है लेकिन निःसंतान दम्पतियों को अब आशा नहीं छोड़नी चाहिए क्योंकि आधुनिकतम तकनीकियों से महिलाओं के लिए न केवल उनकी प्रजनन आयु के दौरान बल्कि रजोनिवृत्ति के बाद भी गर्भधारण करना संभव है।

अब सवाल आता है, निःसंतानता क्या है … और एक दम्पती को चिकित्सा सहायता के लिए कब जाना चाहिए ? बिना किसी गर्भनिरोधक के इस्तेमाल से 12 महीने तक नियमित संभोग के बाद भी गर्भधारण नहीं होना निःसंतानता है । निःसंतानता दो प्रकार की होती है – प्राथमिक और द्वितीयक (सैकेण्डरी)।

प्राथमिक निःसंतानता – कभी गर्भधारण नहीं हुआ है।

सैकेण्डरी निःसंतानता – कम से कम एक बार गर्भधारण हुआ हो । विश्व स्तर पर अधिकांश जोड़े प्राथमिक बांझपन से प्रभावित होते हैं। निःसंतानता दुनियाभर में प्रजनन उम्र के पुरुषों और महिलाओं दोनों को प्रभावित कर सकती है, जिससे व्यक्तिगत पीड़ा और पारिवारिक जीवन में विघटन पैदा हो सकता है।

कुछ दम्पती निःसंतान क्यों होते हैं?

निःसंतानता का कारण महिला या पुरुष या फिर संयुक्त रूप से दोनों हो सकते हैं। कभी-कभी अस्पष्ट निःसंतानता भी कारण हो सकती है जो स्टेण्डर्ड जांच में सामने नहीं आती है।

गर्भधारण के लिए मुख्य रूप से ओव्यूलेशन, निषेचन और आरोपण होना ही चाहिए, यदि इसमें से किसी में गड़बड़ी होती है तो निःसंतानता हो सकती है।

आइए जानते हैं कि दम्पती में कौनसी समस्याएं निःसंतानता का कारण बनती हैं और स्वस्थ संतान प्राप्ति के लिए दम्पती के पास क्या उपचार विकल्प उपलब्ध हैं।
 

महिला निःसंतानता कई कारणों से हो सकती है –

1. फैलोपियन ट्यूब से जुड़े विकार – ओव्यूलेशन के बाद अंडा फैलोपियन ट्यूब के माध्यम से अंडाशय से गर्भाशय तक पहुंचता है। ट्यूब की कोई भी बीमारी अंडे और शुक्राणु के मिलन को रोक सकती है।

विभिन्न तरह के संक्रमण (आमतौर पर एसटीडी), एंडोमेट्रियोसिस, पैल्विक सर्जरी-ओवेरियन सिस्ट के लिए, जिसके परिणामस्वरूप फैलोपियन ट्यूब को नुकसान हो सकता है।

2. ओवरी की कार्यप्रणाली में व्यवधान / हार्मोनल कारण – सिंक्रोनाइज्ड हार्मोनल परिवर्तन माहवारी के दौरान होते हैं यह अंडाशय (ओव्युलेशन) से एक अंडे के निकलने और एंडोमेट्रियल लाइनिंग को बढ़ाने में अग्रणी भूमिका निभाते हैं जो फर्टिलाइल्ड एग (भ्रूण) को गर्भाशय में प्रत्यारोपित होने के लिए तैयार करने में मदद करता है। ओव्यूलेशन में व्यवधान निम्नलिखित स्थितियों में देखा जाता है-

*पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) – यह महिला निःसंतानता का सामान्य कारण है। पीसीओएस में हार्मोनल असंतुलन ओव्यूलेशन की प्रक्रिया को नोर्मल नहीं होने देता है।

*कार्यसंबंधी हाइपोथैलेमिक एमेनोरिया – एथलीटों/ पहलवान / खिलाड़ियों में अत्यधिक शारीरिक मेहनत या भावनात्मक तनाव के परिणामस्वरूप एमेनोरिया (पीरियड्स का अभाव) हो सकता है।

*कम ओवेरियन रिजर्व – इसमें महिलाओं को गर्भधारण करने में कठिनाई का अनुभव हो सकता है क्योंकि अंडाशय में अंडों की संख्या कम हो जाती है।

*समय से पहले ओवेरियन विफलता – अंडाशय 40 वर्ष की आयु से पहले काम करना बंद कर देते हैं यह प्राकृतिक या बीमारी, सर्जरी, कीमोथेरेपी, या रेडिएशन के कारण हो सकता है।

3. गर्भाशय के कारण – गर्भाशय की असामान्य शारीरिक रचना – पॉलीप्स और फाइब्रॉएड की उपस्थिति प्रत्यारोपण में हस्तक्षेप कर सकती है और कभी-कभी सेप्टेट गर्भाशय गुहा जैसे दोष भी हो सकते हैं। यूनिकॉर्नट, बाइकोर्नट गर्भाशय और यूटेरस डिडेलफिस जैसी विसंगतियां भी निःसंतानता का कारण बनती हैं।

4. गर्भाशय ग्रीवा के कारण – कुछ महिलाएं गर्भाशय ग्रीवा के रोगों से पीड़ित हो सकती हैं जहां शुक्राणु असामान्य म्यूकस उत्पादन या पूर्व सर्वाइकल शल्य प्रक्रिया के कारण ग्रीवा मार्ग से गुजर नहीं पाते हैं।
 

पुरूष निःसंतानता के कारण –

कम शुक्राणु या खराब गुणवत्ता वाले शुक्राणु या यह दोनों पुरुष बांझपन के 90 प्रतिशत से अधिक मामलों में जिम्मेदार हैं। शेष मामले शारीरिक समस्याओं, हार्मोनल असंतुलन और आनुवंशिक दोषों के कारण हो सकते हैं। शुक्राणु असामान्यताओं में शामिल हैं-

1. ओलिगोस्पर्मिया (शुक्राणुओं की कम संख्या) / एजूस्पर्मिया (शून्य शुक्राणु) – शुक्राणुओं की संख्या 15 मिलियन प्रति एमएल से कम है तो यह ओलिगोस्पर्मिया जबकि स्खलन में शुक्राणु शून्य हैं तो यह एजूस्पर्मिया कहा जाता है।

2. अस्थेनोस्पर्मिया ( शुक्राणु की गतिशीलता में कमी) – 60 प्रतिशत या अधिक शुक्राणुओं में असामान्य या कम गतिशीलता होती है (गति धीमी है और सीधी रेखा में नहीं है)।

3. टेरटोस्पर्मिया ( शुक्राणु की आकृति में असामान्यता) – पर्याप्त प्रजनन क्षमता के लिए शुक्राणु का आकार और आकृति सामान्य होनी चाहिए ।

जन्मजात जन्म दोष, रोग (मम्स), रासायनिक एक्सपोजर/ व्यावसायिक हानि और जीवन शैली की आदतें / लत भी शुक्राणु असामान्यताएं पैदा कर सकते हैं।
 

पुरूष और महिला निःसंतानता को प्रभावित करने वाले कारक –

*अधिक उम्र
*तंबाकू, शराब या अन्य नशीली दवाओं की लत।
*पर्यावरणीय /व्यावसायिक कारक।
*अत्यधिक व्यायाम।
*अत्यधिक वजन घटाने या बढ़ाने से जुड़े असंतुलित आहार।

अब हमें निःसंतानता के कारण पता हैं, तो आगे देखते हैं कि कैसे हेल्थ केयर प्रोफेशनल दम्पती की जांच करते है और समस्या के स्थान की पहचान करते हैं –

निदान/जांच –

चूंकि पुरुष और महिला दोनों निःसंतानता के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं, निःसंतानता के कारणों का आकलन करने के लिए विस्तृत मेडिकल इतिहास, शारीरिक परीक्षण और जांचों की आवश्यकता होती है।

निःसंतानता की जांच में निम्नलिखित चरण शामिल हैं –

(a) मेडिकल इतिहास लेना – निःसंतानता की स्थिति में जोड़ों के पूर्ण मेडिकल इतिहास के साथ महत्वपूर्ण तथ्य जानने के लिए साक्षात्कार किया जाता है जिसमें शामिल है – कितने समय से कोशिश कर रहे हैं, मासिक धर्म और प्रसूति संबंधी इतिहास (महिला साथी में), गर्भनिरोधक और यौन संबंध इतिहास, व्यवसाय एवं लत, परिवार और इतिहास।

(b) क्लिनिकल परीक्षण – किसी भी शारीरिक समस्या का पता लगाने के लिए जोड़े के पूर्ण क्लिनिकल परीक्षण की आवश्यकता होती है जिसमें छाती, स्तन, पेट और जननांग की जांच के साथ-साथ सामान्य परीक्षा भी शामिल है। यह निःसंतानता विशेषज्ञ को एक प्रोविजनल मूल्यांकन करने में मदद करता है, जिसके बाद अन्य करीबी कारणों को जानने के लिए जांच की सलाह दी जाती है।

(c) जांच – आमतौर पर निःसंतान दंपतियों को अपनी जांच शुरू करने की सलाह दी जाती है –
*12 महीने तक गर्भधारण करने की कोशिश करने के बाद
*छह महीने तक कोशिश के बाद अगर महिला साथी की उम्र 35 वर्ष से अधिक है या
*तुरंत ही अगर उनके निःसंतानता का स्पष्ट कारण है।

शुक्राणु असामान्यताएं, ओव्यूलेशन डिसफंक्शन और फैलोपियन ट्यूब में बाधा निःसंतानता के प्रमुख कारण हैं, प्रारंभिक जांच में इन पर ध्यान दिया जाना चाहिए –

वीर्य विश्लेषण – यौन संयम के 72 घंटे के बाद और 3 महीने के अलावा दो विश्लेषण एक ही प्रयोगशाला में । ( इसकी मात्रा, शुक्राणुओं की संख्या, गतिशीलता और आकृति के परिणाम की विश्व स्वास्थ्य संगठन के नियमों के अनुसार व्याख्या की जा सकती है)।

हार्मोनल परख – महिला भागीदारों में सीरम एएमएच, टीएसएच और प्रोलैक्टिन। पुरुष साथी में असामान्य वीर्य विश्लेषण और संदिग्ध एंडोक्राइन विकार के साथ, एफएसएच, एलएच, टेस्टोस्टेरोन, टीएसएच और प्रोलैक्टिन की जांच।

ट्रांसवेजिनल अल्ट्रासोनोग्राफी – अंडाशय, गर्भाशय और एडनेक्सै (गर्भाशय के आस-पास के शारीरिक भागों) का आकलन करने के लिए जो हमें आवेरियन रिजर्व, गर्भाशय फाइब्रॉएड, एडेनोमायोसिस, पॉलीप्स और एंडोमेट्रियल समस्याओं के बारे में जानकारी देता है।
 
ट्यूब की स्थिति का मूल्यांकन –

हिस्टेरोसालपिंगोग्राफी (एचएसजी) – यह एक रेडियोलॉजिकल प्रक्रिया है जहां रेडियोपैक डाई को गर्भाशय गुहा में इंजेक्ट किया जाता है और डाई की गति को फैलोपियन ट्यूब में देखने के लिए एक्स-रे चित्रों को एक साथ लिया जाता है। पेट की गुहा में डाई का फैलाव ट्यूबों के खुले होने की पुष्टि करता है।

सेलिन इन्फ्यूजन सोनोग्राफी (एसएसजी) – अल्ट्रासाउंड तकनीक जो गर्भाशय में 5-30 मिलीलीटर गर्म स्टेरील सेलिन को इंजेक्ट करके गर्भाशय गुहा और एंडोमेट्रियम को बेहतर तरीके से प्रदर्शित करती है।
 
उन्नत जांचे –

*हिस्टेरोस्कोपी – गर्भाशय की अंदरूनी जांच जो हमें पॉलीप्स, सिनटेकिया, फाइब्रॉएड या यूएसजी में थीन एंडोमेट्रियम की जानकारी देती है।

*लेप्रोस्कोपी – पेट और पेल्विक ऑर्गन्स (गर्भाशय, फैलोपियन ट्यूब और अंडाशय) को देखने के लिए की जाने वाली सर्जिकल प्रक्रिया और साथ ही कोई असामान्यता सामने आने पर सही करने के लिए की जाती है।

*क्रोमोसोमल कैरियोटाइपिंग का उपयोग संदिग्ध आनुवंशिक विकारों को जानने के लिए किया जाता है।

*टेस्टिक्युलर बायोप्सी – पुरुष में ऑब्सट्रक्टिव और नॉन-ऑब्सट्रक्टिव एजोस्पर्मिया के बीच अंतर करने के लिए एक महीन-सी सुई से बायोप्सी की प्रक्रिया।

प्रबंधन –

निःसंतानता का प्रबंधन परामर्श और सलाह से लेकर दवाओं और सर्जरी तक होता है। चिकित्सा और मनोवैज्ञानिक सहायता के साथ निःसंतानता के प्रबंधन में दम्पती की काउंसलिंग सबसे महत्वपूर्ण पहलू है। परामर्श में स्वस्थ जीवनशैली के उपाय की सलाह शामिल है –

संतुलित आहार –

फलों, सब्जियों और साबुत अनाज उत्पादों को शामिल करना। प्रोसेस्ड/ प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ और खाद्य पदार्थों में अतिरिक्त कार्बोहाइड्रेड को कम करना, कोलेस्ट्रॉल और भरपूर वसा वाले आहार में कमी । नियमित व्यायाम को बढ़ावा दें।
धूम्रपान से बचें (निष्क्रिय धूम्रपान से बचें)।
शराब का सेवन सीमित करें।
स्वस्थ वजन बनाए रखें।
महिलाओं में फोलिक एसिड की खुराक।
सेरोनेगेटिव होने पर रूबेला टीकाकरण पर सलाह दी जाती है।

निःसंतानता का कारण बनने वाली बीमारी का उपचार – उपचार का उद्देश्य महिला या पुरुष साथी से संबंधित जांच से पता लगाए गये कारणों को दूर करना है ।

उपचार के विभिन्न तरीके –

ओव्यूलेशन प्रेरक दवाइयों के साथ समयबद्ध संभोग

पीसीओएस में एनोव्यूलेशन (अण्डोत्सर्ग नहीं होना) वाले रोगियों के लिए यह सबसे उपयुक्त है । यहां कुछ दवाएं दी जाती हैं ताकि ओव्यूलेशन हो सके – ओव्यूलेशन की पुष्टि टीवीएस के साथ की जाती है और ओव्यूलेशन के आसपास संभोग के लिए सलाह ।

अंतगर्भाशयी (कृत्रिम) गर्भाधान (आईयूआई) – आईयूआई को ओव्यूलेशन के समय किया जाता है। इसमें निषेचन के लिए पुरुष के शुक्राणु को कैथेटर का उपयोग करके एक महिला के गर्भाशय में छोड़ा जाता है । आईयूआई का उपयोग निम्नलिखित स्थितियों में किया जा सकता है।

*ग्रीवा (सर्वाइकल)दोष।
*कम शुक्राणु और कम गतिशीलता।
*पुरुष साथी में स्तंभन दोष (इरेक्टाइल डिस्फंक्शन)
*प्रतिगमन स्खलन (ऐसी स्थिति जिसमें शुक्राणु बाहर जाने के बजाय मूत्राशय में जमा हो जाते हैं )।
*एचआईवी डिसॉर्डर वाले दम्पती
*अस्पष्ट निःसंतानता

आईयूआई दो प्रकार के होती है –पति के शुक्राणुओं ( एआईएच) का उपयोग करके या डोनर शुक्राणुओं (एआईडी) का उपयोग करके कृत्रिम गर्भाधान।

इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ) – अंडे और शुक्राणु को शरीर के बाहर लैब में भ्रूण बनाने के लिए निषेचित किया जाता है जिसे बाद में फर्टिलिटी विशेषज्ञ द्वारा गर्भाशय में स्थानांतरित कर दिया जाता है, जहां यह एक सफल गर्भावस्था के रूप में प्रत्यारोपित और विकसित हो सकता है।

इंट्रासाइटोप्लाज्मिक स्पर्म इंजेक्शन (इक्सी) – एक उन्नत प्रक्रिया है जिसमें एक शुक्राणु को एक परिपक्व अंडे में इंजेक्ट किया जाता है, फिर निषेचित अंडे को विकसित किया जाता है और भ्रूण का निर्माण होता है इसके बाद भ्रूण को गर्भाशय में रखा गया है। आईवीएफ और आईसीएसआई दोनों में महिला को लगभग 10-12 दिनों तक सामान्य से अधिक अंडे बनाने के लिए रोजाना हार्मोनल इंजेक्शन दिए जाते हैं और फिर उसाइट रिट्रीवल (अण्डे शरीर से बाहर निकलला) किया जाता है।

सरोगेट और गेस्टेशनल कैरियर – दम्पती सरोगेट या गेस्टेशनल कैरियर का विकल्प चुन सकते हैं यदि महिला साथी गर्भावस्था को पूर्ण करने में असमर्थ हो।

एक भ्रूण जो जैविक रूप से उससे संबंधित नहीं है, उसे गर्भवाहक में प्रत्यारोपित किया जाता है। इस विकल्प का उपयोग तब किया जा सकता है जब एक महिला साथी स्वस्थ अंडे का उत्पादन करती है लेकिन किसी कारण से गर्भावस्था को पूर्ण करने में अक्षम है इस स्थिति में अंडे या शुक्राणु डोनेशन उपयोग किया जा सकता है।
 

रोकथाम –

जैसा कि कहा जाता है “रोकथाम इलाज से बेहतर है” सरल जीवन शैली के माध्यम से एक स्वस्थ जीवन शैली अपनाने से प्रजनन की संभावना में सुधार करने में मदद मिल सकती है जिसमें शामिल हैं –

(a) मोटापा निःसंतानता में योगदान करने वाले महत्वपूर्ण कारकों में से एक है। निःसंतानता को रोकने और उपचार के लिए वजन प्रबंधन महत्वपूर्ण है। अधिक वजन या कम वजन वाली महिलाओं की तुलना में स्वस्थ/संतुलित वजन की महिलाएं नियमित रूप से ओव्यूलेट करती हैं। इसी तरह अधिक वजन वाले पुरुषों में प्रजनन क्षमता कम होने की संभावना होती है इसलिए स्वस्थ आहार और व्यायाम के साथ स्वस्थ वजन बनाए रखें।

(b) संतुलित आहार लें जिसमें साबुत अनाज, दालें, ताजे फल और सब्जियां, कम वसा वाले दूध उत्पाद शामिल होने चाहिए। चीनी, शराब, कैफीन की खपत को सीमित करना, धूम्रपान नहीं करना दंपती को गर्भ धारण करने की क्षमता पर लाभकारी प्रभाव डाल सकता है।

(c) पूर्ण स्वास्थ्य और मासिक धर्म की अनियमितताओं को मध्यम व्यायाम से सुधारा जा सकता है, जबकि कभी-कभी अत्यधिक व्यायाम मासिक धर्म चक्र को प्रभावित कर सकता है जैसा कि अत्यधिक प्रशिक्षण अभ्यास करने वाले एथलीटों में देखा जाता है।

(d) कुछ आरामदायक गतिविधि या शौक के लिए समय निकालना और तनाव के स्तर को कम करने की कोशिश करना जिससे शारीरिक और भावनात्मक स्वास्थ्य में सुधार होता है।

(e) शराब के सेवन और धूम्रपान से बचें क्योंकि यह प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकता है।

(f) सुरक्षित सेक्स – यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई), जैसे क्लैमाइडिया और गोनोरिया के कारण फैलोपियन ट्यूब, प्रोस्टेटाइटिस और प्रजनन क्षमता को कम करने वाली अन्य समस्याएं हो सकती हैं।

(g) आयु और प्रजनन क्षमता – परिवार शुरू करने और संतान पैदा करने का सही समय तय करना दम्पती की व्यक्तिगत इच्छा है लेकिन महिलाओं को यह समझने की जरूरत है कि उनकी जैविक क्लाॅक एक मुद्दा है, जिसमें दम्पती को बड़ी उम्र की महिला के साथ गर्भधारण करने में अधिक मुश्किल का सामना करना पड़ सकता है।

(h) नियमित यौन गतिविधि – अच्छे शुक्राणु की गुणवत्ता बनाए रखने में मदद करती है।
 
निष्कर्ष – बांझपन कई कारणों से हो सकता है, जिनमें से कुछ को टाला / रोका जा सकता है जबकि उनमें से अधिकांश का इलाज दवाओं, आईयूआई और सहायक प्रजनन तकनीकों के साथ किया जा सकता है।

 
संपर्क करें

You may also link with us on Facebook, Instagram, Twitter, Linkedin, Youtube & Pinterest

Talk to the best team of fertility experts in the country today for all your pregnancy and fertility-related queries.

Call now +91-7665009014

RELATED BLOG

 

Comments are closed.

Request Call Back
Call Back