जानिए एचसीजी स्तर से जुड़ी 10 महत्वपूर्ण बातें

November 3, 2020

ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (एचसीजी), जिसे गर्भावस्था के हार्मोन के रूप में भी जाना जाता है, जब महिला गर्भवती होती हैं तो बच्चे की नाल द्वारा इसका उत्पादन किया जाता है। गर्भवती महिलाओं के मूत्र और रक्त से एचसीजी हार्मोन का पता लगाया जा सकता है। पेशाब में एवं रक्त में यूरिन किट तथा ब्लड टेस्ट द्वारा एचसीजी पता किया जा सकता है।

एक महिला तब उलझन में पड़ सकती है जब उसका उपचार करने वाला चिकित्सक रक्त एचसीजी स्तरों के लिए पूछता है और इसकी रेफरेंस वेल्यू की तुलना उसकी गर्भावस्था अवधि से करता है। जो प्रश्न अक्सर दिमाग में आते हैं, वे हैं – इस जांच का मतलब क्या है? क्या मेरा एचसीजी लेवल अच्छा है और क्या इसका मतलब यह है कि गर्भस्थ शिशु सामान्य रूप से बढ़ रहा है? यदि मेरे एचसीजी स्तर अपेक्षित स्तरों के अनुसार नहीं हैं तो क्या होगा? क्या मुझे अपने एचसीजी स्तर की जांच दोबारा करवानी चाहिए या एक ही परीक्षण पर्याप्त है?

1. क्या एचसीजी का स्तर हर गर्भवती महिला में जांचना चाहिए?

नहीं। यदि आपने प्राकृतिक रूप से गर्भधारण किया है तो प्रेगनेंसी की पुष्टि करने के लिए एक सरल यूरिन प्रेगनेंसी टेस्ट पर्याप्त है। यदि आपका यूरिन टेस्ट का परिणाम नकारात्मक है और आपका डॉक्टर फिर से परीक्षण करना चाहता है, तो रक्त एचसीजी स्तर की जाँच की जा सकती है। रक्त में एचसीजी गर्भधारण करने के 11 दिनों के बाद और यूरिन प्रेगनेंसी टेस्ट कीट द्वारा प्रारंभिक गर्भावस्था के परीक्षण में चूक होने पर किया जा सकता है।

2. आईवीएफ मरीजों में एचसीजी के स्तरों की व्याख्या

बधाई हो, यदि आपका परीक्षण सकारात्मक है, तो आप गर्भवती हैं लेकिन सतर्क रहें !!!

आईवीएफ में भ्रूण स्थानांतरण प्रक्रिया में भ्रूण को आपके गर्भाशय के अंदर रखा जाता है और 12-14 दिनों के बाद आपने गर्भधारण किया या नहीं यह जानने के लिए एक रक्त एचसीजी स्तर की जाँच की जाती है।

पांचवे दिन या ब्लास्टोसिस्ट स्टेज भ्रूण को स्थानांतरित किया जाता है और कम से कम 12-14 दिनों के बाद एचसीजी स्तर की जांच की जाती है । भ्रूण स्थानांतरण के बाद 100 आईयू/एमएल से अधिक वेल्यु को एक मजबूत पॉजिटिव परिणाम माना जाता है। 5 आईयू/एमएल से कम वेल्यु को नेगेटिव परिणाम माना जाता है। 5-100 आईयू/एमएल के बीच की किसी भी वेल्यु को मध्यवर्ती स्तर माना जाता है और एचसीजी स्तरों में वृद्धि या गिरावट देखने के लिए 48 से 72 घंटे बाद फिर से परीक्षण करने की आवश्यकता होती है।

3. आईवीएफ चक्र में एचसीजी ट्रिगर दिए जाने पर सावधानीपूर्वक व्याख्या करें

जिन दवाओं में एचसीजी शामिल होता है, उन्हें अक्सर आईवीएफ प्रेक्टिस में प्रयोग किया जाता है । ट्रिगर इंजेक्शन एचसीजी स्तरों के साथ हस्तक्षेप कर सकते हैं, इसलिए भ्रूण स्थानांतरण के 14 दिनों के बाद रक्त परीक्षण करने पर पता चलता है कि आरोपण हुआ है या नहीं। इसके अलावा, ऑनलाइन एचसीजी कैलकुलेटर का उपयोग करने से बचना चाहिए क्योंकि वे अक्सर गलत परिणाम देते हैं।

4. एचसीजी दुगुना होने का समय

एक स्वस्थ गर्भधारण में एचसीजी का स्तर 48 से 72 घंटों में लगभग दो गुना हो जाएगा और गर्भावस्था के लगभग 12 सप्ताह तक लगातार बढ़ता रहेगा। इसके बाद एचसीजी का स्तर थोड़ा गिर जाता है और फिर प्रसव तक एक स्थिर स्तर पर बना रहता है।

5. एचसीजी के स्तर में वृद्धि या गिरावट

यदि आपके एचसीजी का स्तर 48-72 घंटों में दुगुना नहीं हुआ है तो क्या होगा ?

घबराएं नहीं। आंकड़ों को बार-बार पढ़ कर उलझें नहीं और अपने डॉक्टर से चर्चा करें।

15 प्रतिशत तक स्वस्थ गर्भधारण में, एचसीजी को दोगुना होने में 96 घंटे तक लग सकता है ।

लेकिन एचसीजी के स्तर में धीमी वृद्धि असामान्य रूप से स्थापित गर्भावस्था का संकेत हो सकती है, जिसे एक्टोपिक गर्भावस्था भी कहा जाता है। इस मामले में डॉक्टर आपको जांच की पुष्टि करने के लिए एक प्रारंभिक ट्रांसवेजाइनल अल्ट्रासाउंड करने की सलाह दे सकते हैं।

एचसीजी में धीमी वृद्धि को भी देखा जा सकता है यदि प्रेगनेंसी सामान्य स्थान पर है लेकिन सही तरह से विकसित नहीं हो रही है तो इस तरह की प्रेगनेंसी में गर्भपात हो सकता है।

एचसीजी के स्तर में गिरावट निश्चित रूप से एक अच्छा संकेत नहीं है और इसका मतलब जैव रासायनिक गर्भावस्था (बायोकेमिकल प्रेगनेंसी) या गर्भपात हो सकता है।

6. बहुत कम या उच्च एचसीजी – इससे क्या फर्क पड़ता है?

बहुत कम एचसीजी स्तर क्या होता है –

बायोकेमिकल गर्भावस्था- जहां एक प्रारंभिक पॉजिटिव एचसीजी रिपोर्ट के बाद, एचसीजी के स्तर में गिरावट है, यह दर्शाता है कि आरोपण हुआ है लेकिन उसके बाद गर्भावस्था बढ़ने में विफल रही।

ब्लाइटेड ओवम/ रिक्त अंडा (गर्भावस्था जहां थैली और नाल बढ़ती है, लेकिन कोई भ्रूण नहीं मिलता है)

• एक्टोपिक प्रेगनेंसी – (जब निषेचित अण्डा महिला के गर्भाशय के बाहर कहीं प्रत्यारोपित और विकसित होने लगता है और आंतरिक रक्त स्त्राव के कारण जान जोखिम में डालने वाला हो सकता है )

 

अधिक उच्च स्तर का संकेत क्या है –

• मोलर गर्भावस्था – आँवल नाल से एक ट्यूमर बनाती है और बहुत छोटी-छोटी गांठे उत्पन्न हो जाती हैं तथ एचसीजी को अत्यधिक स्तरों में स्रावित करना शुरू करती है।

• एकाधिक गर्भधारण – एक से अधिक भ्रूणों का प्रत्यारोपण।

7. मेरी संतान में ठीक से वृद्धि हो रही है या नहीं, यह देखने के लिए मैं कितनी जल्दी अल्ट्रासाउंड करवा सकती हूं?

अल्ट्रासाउंड में गर्भावस्था तभी दिखाई देती है जब एचसीजी का स्तर 1500 आईयू से अधिक हो। यह आमतौर पर भ्रूण स्थानांतरण के 1 महीने बाद या एचसीजी रिपोर्ट पॉजिटिव आने के 15 दिन बाद की जाती है। अल्ट्रासाउंड गर्भावस्था के स्थान (सामान्य या असामान्य) की पुष्टि करेगा और इस समय बच्चे के दिल की धड़कन का भी पता लगाया जा सकता है।

कुछ मामलों में, डॉक्टर एक्टोपिक गर्भावस्था का पता लगाने के लिए एक सप्ताह पहले अल्ट्रासाउंड की सलाह दे सकते हैं।

8. मॉर्निंग सिकनेस !!! – एचसीजी के कारण तो नहीं ?

गर्भावस्था के शुरुआती हफ्तों में मूड में बदलाव, मतली और उल्टी का अनुभव होना ?? – एचसीजी स्तरों में बदलाव से हो सकता है । ज्यादातर गर्भवती महिलाओं में एचसीजी हार्मोन के उतार-चढ़ाव के कारण यह लक्षण हो सकते हैं। यही कारण है कि एकल गर्भधारण की तुलना में जुड़वा या ट्रिपल प्रेगनेंसी वाली महिलाएं उच्च एचसीजी के स्तर के कारण अधिक मतली और उल्टी का अनुभव करती हैं।

9. गर्भवती नहीं होने पर भी एचसीजी में वृद्धि

बहुत कम प्रकार के कैंसर में जैसे जेस्टेशनल ट्रोफोब्लास्टिक रोग (प्लेसेंटा से उत्पन्न ट्यूमर) और ओवेरियन जर्म सेल ट्यूमर के कारण उन महिलाओं में भी एचसीजी का उत्पादन हो सकता है जो गर्भवती नहीं हैं। पुरुषों में भी वृषण (टेस्टिस) के कुछ कैंसर एचसीजी हार्मोन का उत्पादन कर सकते हैं|

10. प्रसव या गर्भपात के बाद भी प्रेगनेंसी टेस्ट पॉजिटिव आना

एचसीजी का स्तर प्रसव या गर्भपात के बाद नकारात्मक होने में 4-6 सप्ताह तक का समय ले सकता है । यदि इस समय अवधि में यूरिन प्रेगनेंसी टेस्ट किया जाता है तो यह पॉजिटिव परिणाम दिखा सकता है जो भ्रामक हो सकता है।

गोल्डन रूल – “सामान्य एचसीजी” के मापदंड अलग-अलग हो सकते हैं – एक एकल एचसीजी की वैल्यू एक महिला के लिए सामान्य और दूसरी के लिए असामान्य हो सकती है। एचसीजी के स्तर और गर्भावस्था के परिणामों के बीच बहुत गहरा संबंध है और आपको सर्वोत्तम मार्गदर्शन के लिए अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ / फर्टिलिटी एक्सपर्ट से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

आप हमसे Facebook, Instagram, Twitter, Linkedin, Youtube & Pinterest पर भी जुड़ सकते हैं।

अपने प्रेग्नेंसी और फर्टिलिटी से जुड़े सवाल पूछने के लिए आज ही देश की सर्वश्रेष्ठ फर्टिलिटी टीम से बात करें।

Call now +91-7665009014

RELATED BLOG

 

Comments are closed.

Request Call Back
Call Back