How to increase your chances of pregnancy with IVF?
October 20, 2018
पुरुष नि:संतानता के कारण ? पुरुष बांझपन के उपलब्ध उपचार
October 26, 2018
25
October
2018

क्यों होता है महिलाओं में बांझपन जाने कारण और उपचार पद्धतिया

-एक दम्पती को नि:संतान के रूप में परिभाषित किया जाता है, यदि वह एक वर्ष तक गर्भावस्था प्राप्त करने के प्रयासों में असफल रहे हैं। एक नवविवाहित जोड़े के लिए परिवार शुरू करने की इच्छा होने पर नि:संतानता के लक्षण सामने आना चिंता का विषय है।

महिलाओं में बांझपन के कारण बताते हुए इन्दिरा आई वी एफ कानपूर सेंटर की आई वी एफ स्पेशलिस्ट डॉ. प्रतिभा सिंह कहती है कि

– साइक्लिकल ऑव्यूलेशन के समय जब अंडा फेलोपियन ट्यूब में आता है इस दौरान असुरक्षित सम्बन्ध बनाने पर भी गर्भधारण नहीं होता है तो यह भी बाँझपन की श्रेणी में आता है, महिला में बांझपन के कारण निम्न हो सकते हैं |

  1. पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम

-इसे पीसीओएस / पीसीओडी  के रूप में भी जाना जाता है, यह महिलाओं में बांझपन के प्रमुख कारणों में से एक है।

यह क्या है?

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) एक हार्मोनल विकार है जो संतान की इच्छा रखने वाली महिला की प्रजनन श्रमता को प्रभावित कर सकता है। पीसीओएस लगभग 15 से 40 वर्ष के दौरान होता है,  महिला के अंडाशय को प्रभावित करता है इसमें महिला का अंडा समय पर बनकर फूट नहीं पाता जिससे गर्भधारण करना मुश्किल होता है |

संभावित संकेत ये भी हैं

-अनियमित पीरियड्स के साथ भारी ब्लीडिंग (गर्भाशय के अस्तर का लंबे समय तक निर्माण होना)।

-पुरुष हार्मोन के उच्च स्तर की उपस्थिति से चेहरे, पीठ और सीने पर अतिरिक्त बाल आते हैं।

-वजन बढ़ना डार्क पेचेस का गठन जो इंसुलिन प्रतिरोध के कारण होता है और प्राय: पीसीओएस के साथ होता है।

-अन्य लक्षणों में सिरदर्द और मुंहासे शामिल हैं।

उपचार

-पीसीओएस पीड़ित को पीरियड्स नियमित करने के लिए बर्थ कंट्रोल गोलियां दी जाती हैं। यह इंसुलिन प्रतिरोध और कोलेस्ट्रॉल का मुकाबला करने के साथ दी जाने वाली दवा है। लाइफस्टाइल परिवर्तन और हार्मोनल थेरेपी से भी पीसीओएस से निपटा जा सकता है। अगर महिला का वजन ज्यादा है तो वजन कम करने से बहुत फायदा होता है |

सफलता दर:

-दुर्भाग्यवश, पीसीओएस के लिए अभी तक कोई विशिष्ट इलाज नहीं है। दवा और जीवनशैली में परिवर्तन के माध्यम से हार्मोन के असंतुलन को ठीक करने से गर्भवती होने की संभावना बढ़ सकती है। इनके प्रभाव सभी पर अलग-अलग हो सकते हैं।

  1. हाइपोथैलेमिक अमेनोरिया

-हाइपोथैलेमिक अमेनोरेरिया बांझपन का कारण बनने वाले हाइपोथैलेमस ग्रंथि के कार्य को प्रभावित करता है।

यह क्या है?

-हाइपोथैलेमस एक ग्रंथि है जो शरीर में हार्मोन के उत्पादन को नियंत्रित करता है। हाइपोथैलेमस तनाव, आहार, अचानक वजन बढ़ाने या कम होने और अधिक व्यायाम जैसे कारकों से आसानी से प्रभावित होता है। यह ऐसी परिस्थिति का कारण बन सकता है जहां महिलाओं का मासिक धर्म प्रभावित होता है, जिससे बांझपन जैसी समस्याएं होती हैं।

संभावित संकेत:

-भूख में वृद्धि

-ठंडा लगना

-सेक्स में कमी आना

-डिप्रेशन

-उपचार

समस्या का समाधान करने के लिए जीवन शैली में परिवर्तन आमतौर पर उपचार में पहला कदम होता है। इंजेक्शन का उपयोग करते हुए हार्मोनल थेरेपी उपचार के लिए एक और विकल्प है।  इस स्थिति से निपटने का सबसे सुरक्षित तरीका इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आई वी एफ) है।

सफलता दर

-हाइपोथैलेमिक अमेनोरेरिया की समस्या खत्म हो जाती है, तो गर्भावस्था प्राप्त करने की सफलता दर काफी अच्छी हो जाती है।

  1. प्री मैच्योर ओवरी फैल्योर

-प्री मैच्योर ओवरी फैल्योर एक ऐसी स्थिति है जहां अंडे का उत्पादन जल्दी बंद हो जाता है |

यह क्या है?

-40 वर्ष से कम उम्र की महिलाओं द्वारा अनुभव की जाने वाली स्थिति है,  यह अंडो की कम मात्रा के कारण होती है। यह ध्यान रहें कि इसे समय से पहले रजोनिवृत्ति से नहीं जोड़ा जाये । रजोनिवृत्ति अंडे के उत्पादन की पूर्ण समाप्ति है जिससे बांझपन होता है। दूसरी तरफ प्री मैच्योर ओवरी फैल्योर अंडे का उत्पादन अपर्याप्त होना है।

संभावित संकेत:

समयपूर्व ओवरी फैल्योर के लक्षणों में शामिल हैं

-योनि में सूखापन

-कम सेक्स ड्राइव

-होट फ्लेशेज और रात को पसीना आना

-अनियमित पीरियड्स

उपचार -अंडो की अपर्याप्तता से यह स्थिति बनती है। आईवीएफ एक व्यवहार्य उपचार विकल्प है।

सफलता दर

-रजोनिवृत्ति के विपरीत, ऐसे कई उदाहरण हैं जहां महिलाएं अभी भी पीरियड्स में ब्लीडिंग का अनुभव कर सकती और गर्भधारण संभव है।

  1. प्रोलैक्टिन का अधिक उत्पादन

-प्रोलैक्टिन पिट्यूटरी ग्रंथि द्वारा उत्पादित एक हार्मोन है।

यह क्या है?

-यदि प्रोलैक्टिन उत्पादन सामान्य से अधिक है, तो यह एस्ट्रोजन के उत्पादन को दबा देगा, जो बदले में पीरियड्स और प्रजनन क्षमता की नियमितता को प्रभावित करता है।

संभावित संकेत

-अनियमिता या पीरियड्स नहीं होना

-मुंहासे के साथ चेहरे और शरीर पर बाल की वृद्धि।

-स्तनों से मिल्क निकलना (हालांकि महिला स्तनपान नहीं करा रही है। )

उपचार

-इस स्थिति का इलाज दवा से किया जा सकता है। दवा केबर गोलिन का उपयोग उन महिलाओं के लिए किया जाता है जो इससे पीड़ित हैं और अपनी प्रजनन क्षमता में बढ़ावा चाहती हैं।

सफलता दर

-सामान्य पिट्यूटरी फंक्शन को सामान्य स्थिति लाया जा सकता है और ज्यादातर मामलों में प्रजनन क्षमता वापस आती है।

  1. ट्यूबल बांझपन- जैसा कि नाम से पता चलता है, यह फैलोपियन ट्यूब से संबंधित है।

यह क्या है? इस बारे में इन्दिरा आई वी एफ फरीदाबाद सेंटर की आई वी एफ स्पेशलिस्ट डॉ. ज्योति गुप्ता बताती हैं कि

-आपकी फैलोपियन ट्यूब में ब्लॉकेज, संक्रमण या क्षतिग्रस्तता अंडाशय से अंडे के हस्तांतरण में बाधा डालती है, जिससे  पीरियड्स प्रभावित होते है।

संभावित संकेत

– निचले हिस्से में पेट दर्द, माहवारी के समय अत्यधिक पेट दर्द फैलोपियन ट्यूब में ब्लॉक या विकार का संकेत हो सकता है।

उपचार

ब्लॉक्ड फैलोपियन ट्यूबों का ऑपरेशन द्वारा इलाज किया जा सकता है। क्षतिग्रस्त ट्यूब आसानी से मरम्मत योग्य नहीं होती है और ऐसा करने से और जटिलताएं बढ़ सकती है | ब्लॉक्ड ट्यूब्स के लिए आई वी एफ सबसे सफल इलाज है |

सफलता दर

– ब्लॉकड फैलोपियन ट्यूबों के ऑपरेशन के बाद गर्भावस्था प्राप्त करने में सफलता की गारंटी नहीं है। क्षतिग्रस्त फैलोपियन ट्यूब की जटिलताओं के जोखिम से बचने के लिए इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन का सुझाव दिया जाता है |

  1. एंडोमेट्रोसिस

-एंडोमेट्रोसिस आमतौर पर पेल्विक क्षेत्र में फैलोपियन ट्यूब, अंडाशय और अन्य ऊतकों को प्रभावित करता है।

यह क्या है?

-एंडोमेट्रियम ऊतक एक श्लेष्म झिल्ली ऊतक है जो गर्भाशय को रेखांकित करता है और अंडे के प्रत्यारोपण के लिए आवश्यक होता है। जब एंडोमेट्रियम ऊतक गर्भाशय के बाहर बढ़ता है, तो इसका परिणाम एंडोमेट्रोसिस होता है। जब ऊतक अंडाशय में बढ़ता है, तो यह ओवेरियन सिस्ट का कारण बन सकता है जो प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकता है।

संभावित संकेत

-दर्दनाक पीरियड्स

-संभोग के साथ दर्द

-पेशाब और बॉउल मूवमेंट्स के साथ दर्द

-पीरियड्स दौरान भारी रक्तस्राव और कभी-कभी पीरियड्स के बीच भी ब्लीडिंग

उपचार-चूंकि एन्डोमेट्रोसिस एस्ट्रोजन की अत्यधिक मात्रा के कारण होता है, सर्जरी को छोड़कर हार्मोन थेरेपी इसके लिए एक निश्चित उपचार है।

सफलता दर
  • डॉक्टर इस स्थिति से पीड़ित महिलाओं को सलाह देते हैं कि वे गर्भावस्था के लिए जल्द ही आई वी एफ का चयन करें, क्योंकि समय के साथ स्थिति खराब हो सकती है।

महिला बांझपन का कारण और इलाज केस टू केस अलग होता है। ऐसी परिस्थितिया आने पर निराश होने व अवैज्ञानिक इलाज का विकल्प न चुनें।   महिला बाँझपन में आई वी एफ की विभिन्न तकनीके कारगर साबित हो रही है |

 

You may also link with us on Facebook, Instagram, Twitter, Linkedin, Youtube & Pinterest

Talk to the best team of fertility experts in the country today for all your pregnancy and fertility-related queries.

Call now +91-7665009014

Comments are closed.

Request Call Back
Call Back